रचना चोरों की शामत

Thursday, 23 June 2016

पहिरीं बरसात


बादल गरिज्या ऐं खिविणि खिली
खुश थी पहिरीं बरसात पई।

उस जो धरतीअ ताँ छिके छिको
ककिरनि में सूरजु वञी लिको।
माण्हूँ ड्रोड्या घर-डेरनि दे 
ऐं पखी उद्या आखेरनि दे 

दींह में णु आई रात लही
अहिड़ी पहिरीं बरसात पई।

थ्या बाहिरि 'कोट' दुकाननि माँ
छतरियूँ निकित्यूँ तहखाननि माँ।  
आया सभु करिण धमाल घणी
कागर जूँ बेड़ियूँ बार खणी।

बी गाल्हि न तिनि खे यादि रही
मिठिड़ी पहिरीं बरसात पई।  

स्वागत में, चाँहि पकोड़नि जी 
घर-घर में ख़ासी महक उदी
सिक साँ गदु वेठा बार-वदा
भुलिजी सभु, सखिणा-सूर-फदा

आई पेरनि में छेरि धी
संबिरी पहिरीं बरसात पई। 

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers