रचना चोरों की शामत

Wednesday, 11 May 2016

कुदिरत वारा



दिल जो दुखु जिएँ वञे री ओ कुदिरत वारा। 
अहिड़ो मींहु वसाइ वरी ओ कुदिरत वारा। 

पारि करिणु चाहे थो हरको,  भव-सागर खे  
खणी लोभ जी साणु भरी, ओ कुदिरत वारा। 

दिसु कींय महल अटारिनि ड्राहे, घर गुरबत जा
धन-दौलत साँ देगि भरी, ओ कुदिरत वारा। 

उजला कपड़ा, बगुला-भत, करे तनि-धारणु
जापु जपिनि था हरी! हरी! ओ कुदिरत वारा। 

आबु सुकी व्यो आ अजु जन-जन जे नेणनि जो 
बची न बाकी शरम ज़री, ओ कुदिरत वारा। 

जाणनि था सभु पर न मञिनि था हिन सच खे हू 
वञिणो आ हिक दींहु मरी, ओ कुदिरत वारा। 

अची कल्पना पहिंजापे जे सुकल बाग में
करे प्यार साँ वञु तूँ तरी, ओ कुदिरत वारा। 

-कल्पना रामानी 


No comments:

Google+ Followers