रचना चोरों की शामत

Thursday, 12 May 2016

सौदो सच जो

मनुष करे दिसु हिकु भेरो तूँ, सौदो सच जो।  
गंदों तोखे मिठिड़ो सभ खाँ, मेवो सच जो

कूडु विछाए, कंडा गुलनि में केदा लेकिन 
रहिणो आहे बागु सदाईं, साओ सच जो

लखु सुहिणा प्या लनि कपट जा कपड़ा तन ते   
मगर सभिनि जो मनु मोहींदो, चोलो सच जो। 

कूड़ा सौ तूफान अचनि गदु खणी अँधेरो   
पर न विसाएँ सघंदा रंदडु दियड़ो, सच जो

फलु त ज़रूरी मिलिणो आहे, देर भले थे 
रि तूँ पाण साँ सिर्फ कल्पनावादो, सच जो।  


-कल्पना रामानी  

No comments:

Google+ Followers