रचना चोरों की शामत

Saturday, 14 May 2016

सावणु आयो


सुकल दींह थ्या वापसि सावा, सावणु आयो। 
वणनि धा बाँहुनि ते झूला, सावणु आयो।  

सिजु न सणाओ दिसिजे पयो, ऐं रात सुम्हें थी
हँज में लिकाए, चंडु ऐं तारा, सावणु आयो।

खिविण खिली जिएँ, उभ माँ निकिता सदिण असाँखे
दुहिल वजाए बादल कारा, सावणु आयो।

आली मिट्टीय जी खुशबू पई मन खे मोहे
टप-टप टेपनि गीत बुधाया, सावणु आयो। 

फुलवारिनि में दिसी करे किलकारियूँ गूँज्यूँ
रंग-रंग जा गुल-फुल प्यारा, सावणु आयो।

टोप मथे ते हथ में खणी कार जूँ बेड्यूँ
बार तिराइण निकिरी आया, सावणु आयो

सरत्यूँ संबिरी हल्यूँ मनाइण पहिरीं बारिश  
काजल चुमी कया गिल कारा, सावणु आयो।  

हार मञे मोटी वेंदी, महँगाई दाइणि
पाणही थाबा, खाई 'कल्पना' सावणु आयो।  

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers