रचना चोरों की शामत

Thursday, 12 May 2016

मिठिड़ो अबाणो

कालु थो हर-हर चवई, थीउ मन, सियाणो।
करि करमु अजु ही, दिठो कहिं आ सुभाणो।   

जिंदगीय जा चार दींहड़ा जीउ खिली तूँ
खाली करिणो आहे आखिरि घरु पुराणो। 

काज तुहिंजा, थी सघनि था, सभु सणावा   
मोतिबर बस, कढु मथनि खाँ तूँ विहाणो। 

रात अमावसि, जे हुजे चौधारि ऊँदहि
बारे हलु मन जो दियो, मिलंदो ठिकाणो। 

सुख सवें चाहे हुजनि परदेस में पर
याद ईंदुइ कष्ट में मिठिड़ो अबाणो। 

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers