रचना चोरों की शामत

Sunday, 15 May 2016

नचाए थी गर्मी

तपे थो जहिं सिजु, तपाए थी गर्मी।
नंहनि ते असाँखे नचाए थी गर्मी।

पचायूँ असाँ कींअ रोटी,  असाँजो    
गोहे तनु पघर साँ पचाए थी गर्मी।

हिं थी दिसे तंगि दाढा थियूँ था
हवाउनि खे होको लगाए थी गर्मी।

विछाए बगीचनि में सावा गालीचा
झकोरनि साँ झूला झुलाए थी गर्मी।

सँदेसा परे खाँ ई प्यार-सिक साँ
जबल ते असाँखे घुराए थी गर्मी।

खणी थी अचे साणु गिदिरा-हिंदाणा
मिठा अंब आणे, चखाए थी गर्मी। 

सलादनि, फलनि जा भरे थी भंडारा
फ़लूदा ऐं कुलफियूँ खाराए थी गर्मी।

हलाए करे पंखा, एसी ऐं कूलर
सुम्हण लइ थधो हंधु विछाए थी गर्मी।

भला छो शिकायत कयूँ कल्पनापोइ
दुखनि साणु सुखु पिणि सजाए थी गर्मी।  

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers