रचना चोरों की शामत

Tuesday, 14 June 2016

मौसमु-बसंती

बसंती मौसम के लिए चित्र परिणाम

हर हियें जो ठारु आ, मौसमु-बसंती।
गुलशननि जो ताजु आ, मौसमु-बसंती।

रुस्यल परिचाए, पयो विछुड़ियल सदा
बिनि दिलिन जो मेलु आ, मौसमु-बसंती।

गुल ट्रिड़नि, मुरकनि कल्यूँ, तितल्यूँ उदामनि
बारिड़नि जो गोड़ु आ, मौसमु-बसंती।

कूक कोयल जी बि ऐं, चहकणु पखिनि जो
झंगलनि जो मोरु आ, मौसमु-बसंती।

सिज घटायो आ खुशीअ साँ, उस जो कोटो
महकंदड़ु महताबु आ, मौसमु-बसंती।

कल्पनादिसु प्यो सदे, हलु सैर ते गदु
इएँ न पुछिजाँइ केरु आ, मौसमु-बसंती। 

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers