रचना चोरों की शामत

Tuesday, 14 June 2016

छदे ही शहरु वञु तूँ स्याणा पखीयड़ा

चित्र से काव्य तक
दे ही शहरु वञु तूँ, स्याणा पखीयड़ा।
न मिलंदइ हिते हाणे, दाणा पखीयड़ा। 
          
गो आ लहूअ जो कुहाड़िनि खे चस्को
रुअनि वेठा झंग-झर, निमाणा पखीयड़ा। 

बचाईंदा वण कींअ तुहिंजो घरौंदो
न हूँदा जे तिनि जा, घराणा पखीयड़ा।  

रहमु छाहे, जाणनि शहर ही नथा मन!
करें छाते थो पोइ, माणा पखीयड़ा

रखी मोहु पुरखनि जी, थातीअ साँ एदो
न करि प्राण पहिंजा तूँ साणा पखीयड़ा

मिले रोटी जहिं गाँव में, ऐं सुरक्षा    
उते ही बणाइजि ठिकाणा पखीयड़ा

जनम-भूमि छदिजण जो छा दर्दु आहे
इहो कल्पनामाँ बि जाणा पखीयड़ा 

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers