रचना चोरों की शामत

Thursday, 28 July 2016

लवें काँगु कहिं दरि

चित्र से काव्य तक
सतायल खे सदुजु थो दे कोई-कोई।
लखनि में लियाक़त रखे, कोई-कोई।

थियनि हादसा रोज़ु रस्तनि ते था पर
दिसी चोट खाधलु, रुके कोई-कोई।

समुहिं कैमरे जे लनि रोजु पौधा 
, तिनि खे पाणी, पुछे कोई-कोई। 

दाइनि प्या तर माल साम्हूँ बुख्यनि जे
बुखुनि लाइ तरो पिणि,दे कोई-कोई।

ग्याँ सूर्ज उभिरियल जे, हथ हरको जोड़े
बुदे जिनि जो सिजु, हथु रखे कोई-कोई।

लवें काँगु कहिं दरि, फिरी प्यो थो फथिके
दिसी दर ते हुन खे, ठरे कोई-कोई।

पढ़णु खतु पिरिनि जो, त चाहे थो हरको  
हरफ़ चार पर थो, लिखे कोई-कोई।

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers