रचना चोरों की शामत

Thursday, 28 July 2016

ज़मानो तिखो आ

चित्र से काव्य तक
बदिलि पाण खे दिलि, ज़मानो तिखो आ। 
दिंगाईअ खे दाकणि, सिधनि खे धिको आ।

शहरि गोठ पहुता, शहर झंगलनि में
पखी पहुता कहिं कुँड, न कहिंखे पतो आ।

वणनि कोन था घर, दिये खे बि नंढिड़ा 
दे कोठिड़ी, कोट खे हुन वरियो आ।

ई माइट्रनि खे, तूँ घुरंदें न जेसीं  
चवंदा हू बि तेसीं,दाढो भलो आ।

बुधाए प्यो रोई, पिपिल जो कट्यलु ठुठु
जिन्हनि कल्ह थे पूज्यो उन्हनि अजु कुठो आ

उघणु हीय त चाहे थी सभिनी जा गोढ़ा  
न पर लेखिणीअ जे बि वस में इहो आ।  
   
तलकु तूँ ऐं माँखे, जे ई सभु असाँ थ्यूँ
त सचु 'कल्पना' हीय जिंदुड़ी मज़ो आ।


-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers