रचना चोरों की शामत

Wednesday, 24 August 2016

केदी सूँह वधाए धरती

जींअ लगे चौमासो, तिएँ बादाए धरती
वसण लाइ थी, ककिरनि खे, परचाए धरती  

सावलि जी चौधार विछाए, सुहिणी चादर
नेणनि-नूरु असाँजो, पई वधाए धरती

दे किसाननि खे खेतनि में बिज पोखाए  
प्राण-प्राण जी बुख-उञ पई भजाए धरती

समुंड्र-नंदियूँ प्या पूर वहनि, कनि कल-कल झरणा
कुदरत जी थी केदी सूँह वधाए धरती

रंग-रंग जा ट्रिड़नि पया गुल, हुन जी हँज में
प्यारु ई पई तिनि साँ, तोड़ि निभाए धरती

वणे पई रिमिझिमि सावण जी नंढनि-वनि खे
दु सभिनी साँ पई थी खुश्यूँ मल्हाए धरती

हुन खे खाट्र हणी छो माण्हूँ पया सताइनि
हिं कल्पना कहिंखे कीन सताए धरती  

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers