रचना चोरों की शामत

Thursday, 11 August 2016

उभ में उदणु सुठो आ

सुख साँ गदु थोरे दुख जो पिणि हुजणु सुठो आ।
पहिंजी बुरी नज़र खाँ मनिड़ा, बचणु सुठो आ।

जेसीं सदु न करे किस्मत, को खोले रस्तो 
दे वहाइणु लुड़िक सबिरु कुछ रखणु सुठो आ।

नाहिं ज़रूरी मिले सभिनि खे सूर्जु समूरो
ऊँदहि खाँ हिकु दियो बि घर में रणु सुठो आ।

बोल मिठा, व्यवहारु, सलीको, मानु वनि जो
ख्वारु थियण खाँ, नंढिपण में ही सिखणु सुठो आ।

हिक हंधि हूँदा चार, बिलाशक वजंदा बासण
थोरो झुकु तूँ थोरो हू,दु रहणु सुठो आ।

पिञिरे में तर माल दिसी, छो पर कतिरायूँ
रुखो-सुखो खाई अनु उभ में उणु सुठो आ।

देसु पराओ मानु न दे त छदे हठु-माणो
देसि कल्पना’, पहिंजे वापस वरणु सुठो आ।


-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers