रचना चोरों की शामत

Sunday, 18 September 2016

नओं सालु आयो

नया साल आया के लिए चित्र परिणाम
फिरी मुँद जी फितरत, नओं सालु आयो 
खणी सुख जी दौलत, नओं सालु आयो

मिटाए हथनि ताँ निभाग्यूँ लकीरूँ
मट्यो पहिंजी किस्मत, नओं सालु आयो

जे चाह्यो था पूरा थियनि सेघु सुपिना
जप्यो नामु मेहनत, नओं सालु आयो

वयो कुछु त छा थ्यो, घणो कुछु आ बाकी
न छदिणी आ हिम्मत, नओं सालु आयो

दिसो सिर्फ़ु साम्हूं, न पुठिते निहारयो
चवे पई थी कुदरत, नओं सालु आयो  

विञायो सुकूँ जिनि, पुराणे वरिह में
दियण तिनि खे राहत, नओं सालु आयो

वहम खे हवा , रखो दोस्तनि साँ
न बेजा अदावत, नओं सालु आयो

कयो कल्पनाकुछ उहो जींअ जागे
दिलिनि में मुहब्बत, नओं सालु आयो


-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers