रचना चोरों की शामत

Monday, 23 May 2016

जदहिं सुबुह जी निंड्र खुले थी

हिं सुबुह जी निंड्र खुले थी, बागनि में।
हवा उथारे वठी वञे थी, बागनि में।  

दिसी वणनि खे पातल, सावक जी सधिरी
दीद अखिनि जी अञा वधे थी, बागनि में।  

रंग-रंग जे गुलनि-फुलनि जा माक अची
चप चोरे, रुखसार चुमे थी, बागनि में।

नखरा करे, लुभाए, सुहिणी कली-कली  
भँवरनि खे आवाज़ु दिए थी, बागनि में। 

तितलिनि साँ गदु दिसी ड्रोड़ंदो बारनि खे 
बचपन खे दिलि याद करे थी, बागनि में।    

हिक टारीअ ताँ बी टारीअ ते झिरिकिनि जूँ
झूमिरियूँ ऐं चह-चह मोहे थी, बागनि में।

तूँ बि कल्पनाहलु साथी, दु सैर करिण
महक प्यार जी, घणी उदे थी, बागनि में।


-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers