रचना चोरों की शामत

Monday, 23 May 2016

जे जग में ममता न हुजे हाँ

हिक बिए जी परवा न हुजे हाँ। 
जे ज में ममता न हुजे हाँ।

अगरि न कावड़ि कनि हाँ बादल
साई हीय दुनिया, न हुजे हाँ

भला जी सघूँ हाँ छा एदो
जे जीयरी आशा, न हुजे हाँ?

कींअ चवाँ हाँ, माँ ही ग़ज़लूँ
जे कहिंजी वाह-वा, न हुजे हाँ?

केरु चवे हाँ खासु' असाँखे
जे सिंधी भाषा, न हुजे हाँ? 

मनु मुहिजो कींअ मञे, ‘कल्पना’, 
ही जगु कूड़ बिना न हुजे हाँ। 

-कल्पना रामानी   

No comments:

Google+ Followers