रचना चोरों की शामत

Friday, 27 May 2016

मिल्यो खतु जो तुहिंजों

खुल्या भा मुहिंजा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।
वणनि प्या नज़ारा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

मुहिंजे घर माँ पतझड़ु, वयो मोटी अजु खाँ
थिया दींह सावा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

दिठो चंडु पूरो, अमावसि में अजु मूँ
बुधईं हाल दिलि जा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

दिसी बाग में तुहिंजी चिट्ठीअ साँ गाल्हियूँ
कलियूँ-गुल पए मुश्क्या, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

माँ जाणा पई तूँ, अची पाण उघंदें  
मुहिंजा नेण आला, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

हाणे छो कटींदसि, माँ रातियूँ ओ दिलिबर
णे उभ जा तारा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

तुहिंजे प्यार खाँ वधि, घुराँ माँ खुदा खाँ
भला कल्पना छा, मिल्यो ख़तु जो तुहिंजो।

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers