रचना चोरों की शामत

Wednesday, 24 August 2016

बसंतु आयो

बसंत के लिए चित्र परिणाम
थधि जा दींह छदे व्या जायूँ, बसंतु आयो। 
हलो त गदिजी मौज मनायूँ, बसंतु आयो।  

तितिल्यूँ-भौंरा लगा कलिनि खे गीत बुधाइण
झुमिरि हणण झिरिक्यूँ पिणि आयूँ, बसंतु आयो।  

सोनी सरिहँ दिसी खेतनि में दिनऊँ किसाननि
हिक बिए खे दिलि साँ वाधायूँ, बसंतु आयो।     

खूबु वणे पई चाँड्रोकी ऐं चंडु गगन जो
तारनि जी झिरमिरि वाझायूँ, बसंतु आयो।  

हल्यूँ लिखण बेड्यूँ सीने ते समुंड्र नदिनि जे
हँज में करे प्रेमिनि खे, ‘वायूँ’, बसंतु आयो।  

सख्यूँ खणी अचो, कारु-मसु ऐं कलमु कल्पना
कुछु ग़ज़लुनि जा ख़्याल जगायूँ, बसंतु आयो।  

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers