रचना चोरों की शामत

Friday, 19 August 2016

टेरि काँग तूँ दिसी कुननि में

ड़ो थ्यो घर जे भाँडनि में।
घर पहुता होटल-मालनि में।

वसिणो हुयुनि सुकल धरतीअ ते
ककर वस्या पर पूर नंदिनि में। 

मानु न करि नीलामु असाँजो  
टेरि काँग तूँ दिसी कुननि में।

मिली भऊँ पए कंधु गरीब जो
दियो रे कींअ तूफाननि में।

शरमु हया सभु विकिणी खाधऊँ
छा अजु बाकी इंसाननि में।

दिसी बेसुरा रा वधी आ
मायूसी ग़ज़लुनि-गाननि में।

पहिंजनि खे ई धिको कल्पना
धिकिजे प्यो हू अजु धार्यनि  में।

-कल्पना रामानी 


No comments:

Google+ Followers