रचना चोरों की शामत

Thursday, 1 September 2016

पिपिलु पुराणो

हालत पहिंजी जहिं दिसे थो पिपिलु पुराणो
गुज़रियल दींहड़ा याद करे थो पिपिलु पुराणो

रोज़ु नमस्ते कंदा हुया जेके सिज उभिरे
दिसी उहे दर बंद, रे थो पिपिलु पुराणो

सुकंद्यूँ वञनि पयूँ टार्यूँ सभु धीरे-धीरे
पन पीला पिणि दिसी दुखे थो पिपिलु पुराणो

छाँव अङण में हुन जे, छट्र जी बची न बाकी
दिड़ा किथे वेहनि सोचे थो पिपिलु पुराणो

खुश थींदो हो जिनि पंछिनि खे गोदि विहारे
तिनि जी पिणि चहचह गोल्हे थो पिपिलु पुराणो

शहरु वसायो जिनि, तिनि खे वापसि मोटण लइ
ख़तु हिकिड़ो ई कसमु लिखे थो पिपिलु पुराणो

तनु-मनु घायल, पर मिठिड़नि जे इंतज़ार में
जु बि कल्पनाराह तके थो पिपिलु पुराणो


-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers