रचना चोरों की शामत

Sunday, 18 September 2016

त छो थे गुलामीय जी रोटिनि जो चर्चों


अगर थे किथे पिणि, चिरागनि जो चर्चो।
ज़रूरी आ ऊँदाही, कुंडुनि जो चर्चो।

दियनि खे हू अनु, कयो कीन पर ज     
बुखायल-उञायल किसाननि जो चर्चो।

कई मेरी गंगा, घणी पाप धोई 
थे हाणे सफाईअ जे मुद्दनि जो चर्चो।

दियनि था जहिं रंगु-खुशबू सभई गुल
पो छाकाणि थे बस, गुलाबनि जो चर्चो।

विराहिनि था संस्कार, जेके असाँखे
हले छो नथो तिनि, किताबनि जो चर्चो।

मिटाए अवलि माउ धरतीअ जा दुखिड़ा
कयो साथी पोइ, चंड्र, तारनि जो चर्चो।

मिले मुल्क में कल्पनासौली रोटी
त छो थे गुलामीअ जी रोटिनि जो चर्चो।

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers