रचना चोरों की शामत

Sunday, 18 September 2016

धरे धीरु बिगड़ी बणाए सघूँ था


 
धरे धीरु बिगड़ी, बणाए सघूँ था
रुठल माइटनि खे मनाए सघूँ था 

रुनासीं उजाले जी ख़ातिरि उमिरि भरि
दियो छा न हिकिड़ो जलाए सघूँ था?

पढ़ी बारपण में पहाका अदब जा
बुढापे में आदरु पिराए सघूँ था 

गासीं शहर दे, मगर हक़ वसूले
शहरु गोठ खे पिणि बणाए सघूँ था 

परे थ्या पिरीं जे, सबबु कुछु त हूँदो
झुकी थोरो तिनि खे, मनाए सघूँ था 

दे कल्पनासिर्फ़ु आदत अड़ीअ जी
खुशीअ खे सदा गदु वसाए सघूँ था 

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers