रचना चोरों की शामत

Sunday, 18 September 2016

पहुतो नींगरु शहरि पराए

गोठु छदे कल्ह पहुतो नींगरु शहरि पराए
पेटु भरिण लइ अजु हू गोदा पयो गसाए
         
हिं मथे ते ढोए प्यो सामानु गिरह लइ
त कहिं धोई कोप पयो बुख-उञ परिचाए

राजु कयईं पए हुति पहिंजे घर-घेर-घिटिनि में
पर हिति चारई पहर पयो थो पघरु वहाए

दींह गुज़ारे प्यो गोल्हींदे टुकुर छाँव जो  
रात सुम्हें प्यो उभु वेढ़े, धरती हंधु ठाहे

माउ-पीउ जी दिलि ट्रोड़े छा हुन सुखु जोड्यो?
जो सुपना गदु धी वयो मिट्र-माइट्र फिटाए

जाणे थो हईं पेरनि ते खुद हुई कुहाड़ी
हाणे गाल्हियूँ णे अंदर में प्यो पछिताए

नींगर जागु! न करि मोटण में देरि कल्पना
जु बि गोठु गदिबो मन तोसाँ, भाकुरु पाए   


-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers